Aligarh के Mukesh Kachori Bhandar पर GST का छापा, साल की SALE 50 लाख से भी ज्यादा

अलीगढ़ के मुकेश कचौरी वाले की दुकान पर सुबह से शाम तक ग्राहकों की लाइन लगी रहती है। लेकिन, फिलहाल वह एक नई वजह से चर्चा में है। मुकेश को टैक्स विभाग का नोटिस मिला है। क्योंकि, उसकी सालाना कमाई 50 लाख रुपए से़ 60 लाख रुपए के बीच आंकी गई है,जिससे अधिकारियों की आंखें फटी रह गई। मुकेश ने ना तो जीएसटी के तहत रजिस्ट्रेशन करवा रखा है और ना ही वह टैक्स भरता है। 12 साल से दुकान चला रहे मुकेश को पहली बार टैक्स का नोटिस मिला है। लेकिन सवाल यह है कि आखिर यह आयकर विभाग की नजर में आया कैसे।

यहां हुई थी शिकायत

मुकेश पिछले कई साल से कचौरी-समोसे बेच रहा है, लेकिन हाल ही में किसी ने कमर्शियल टैक्स डिपार्टमेंट से शिकायत कर दी थी। उसके बाद टैक्स इंस्पेक्टर्स की टीम ने पास की दुकान पर बैठकर मुकेश की बिक्री पर नजर रखना शुरू कर दिया। इस जांच को एक सप्ताह में पूरा किया जाना था।

विभागीय कर्मी हुए थे तैनात

इस संदर्भ में एसआईबी के डिप्टी कमिश्नर रवेंद्र पाल सिंह ने बताया कि जांच से पहले इस कचौड़ी विक्रेता की सीमा टॉकिज के पास स्थित दुकान पर तीन से चार दिन बिक्री का अनुमान लगाया गया था। इसके लिए विभागीय कर्मी वहां तैनात रहे। मुकेश की दुकान पर तीन चरणों में नजर रखी गई, सुबह सात बजे से 11 बजे तक, 11 बजे से दोपहर दो बजे तक और दो बजे से शाम चार बजे तक।
सुबह आठ बजे एक प्लेट कचौड़ी के लिए अधिकारी को 45 मिनट तक इंतजार करना पड़ा था, लेकिन तब भी ज्यादा भीड़ के कारण उसे कचौड़ी नहीं मिली पाई थी। जब बिक्री का अनुमान जीएसटी की वर्तमान छूट से अधिक का निकला, तो जांच शुरू हुई।

सलाना ब्रिकी 50 से 60 लाख रुपये के बीच

जांच के दौरान बिक्री और स्टॉक में मिला माल ये साबित करने के लिए काफी था कि सलाना ब्रिकी 50 से 60 लाख रुपये के बीच है। बता दें कि कचौड़ी के साथ यहां पर समोसे भी बिकते हैं। पास की ही दो दुकानों में कच्चे माल का स्टॉक है।

इन विक्रेताओं की ओर भी घूम सकती है विभागीय जांच

सीमा टॉकिज के पास लगभग 12-13 साल से कचौड़ी का कारोबार करने वाले मुकेश अकेले ऐसे विक्रेता नहीं है, जिनका टर्नओवर लाखों में है। शहर में रेलवे रोड, जयगंज, सेंटर प्वाइंट, मीनाक्षी पुल, किशनपुर तिराहा, मैरिस रोड पर ऐसे कई कचौड़ी विक्रेता हैं, जिनका टर्नओवर लाखों में है।